Discover latest Indian Blogs Child Story in Hindi free Download PDF / चाइल्ड स्टोरी फ्री डाउनलोड – Hindi Pdf Books

Child Story in Hindi free Download PDF / चाइल्ड स्टोरी फ्री डाउनलोड

Child Story in Hindi free Download PDF मित्रों इस पोस्ट में बच्चों की हिंदी कहानियां दी गयी हैं।  आप इन्हे नीचे की लिंक से डाउनलोड कर सकते हैं।

 

 

 

1- Hindi story Books PDF Download / हिंदी बुक्स फ्री डाउनलोड

 

2- 1000 + Hindi Books Free Download / हिंदी ईबुक्स फ्री में डाउनलोड करें

 

3- { PDF } 5 + Bedtime Stories in Hindi PDF Free Download / बच्चों की कहानियां

 

 

 

किसी राज्य में एक राजा राज्य करता था। उसने अपने दरबारी से पूछा, “अगर हम इस राज्य से सभी बूढ़े लोगो को अन्यत्र जगह भिजवा दे तो राज्य का काफी पैसा बच जाएगा जो काम में आ जाएगा।”

 

 

 

 

 

उस राजा ने अपने राज्य में सभी को आदेश दिया कि अपने घर के सभी बूढ़े व्यक्तियों को जंगल में छोड़ दे नहीं तो उन्हें दंड दिया जाएगा। यह बूढ़े किसी काम के नहीं है। इनके नहीं रहने पर खर्च बचेगा जो राज्य के विकास के काम आएगा।

 

 

 

 

 

सभी लोग अपने-अपने घर के बूढ़े आदमियों औरतो को जंगल में उनके हाल पर छोड़ दिया। सोहन भी अपने माता-पिता को जंगल में छोड़ने के बाद लौटने लगा तो उसके पिता ने कहा, “बेटा रात होने वाली है। हम लोग रास्ते के पेड़ पौधों की टहनिया तोड़ते हुए आए है। वही निशान देखकर तुम जल्दी से घर पहुंच जाओगे।”

 

 

 

 

 

 

सोहन को पिता का यह सुझाव पसंद आया। उसने सोचा माता-पिता को अपनी फ़िक्र नहीं है। लेकिन हमारे लिए उन्होंने निशान बना दिया कि मैं सुरक्षित घर लौट सकूँ।

 

 

 

 

मैं अब माता-पिता को जंगल में नहीं छोडूंगा। चाहे उसके लिए मुझे यातना ही क्यों न झेलना पड़े। सोहन अपने माता-पिता को सबसे छुपाते हुए अपने घर वापस ले आया।

 

 

 

 

 

एक दिन राजदरबार में एक बाजीगर आया उसके हाथ में एक टेढ़ा-मेढ़ा कंकड़ था। उसने राजा से कहा, “हमारे पास यह कंकड़ है। जो व्यक्ति इस कंकड़ में धागा इस पार से उस पार कर देगा उसे मैं 10 स्वर्ण मोहरे दूंगा।”

 

 

 

 

 

बाजीगर ने पुनः प्रश्न किया, “मुझे आपके राज्य का जो कोई व्यक्ति राख की रस्सी बनाकर दिखाएगा उसे 20 स्वर्ण मोहरे मिलेगी और जो व्यक्ति आधा धूप और आधा छांव में चलकर आएगा उसे 50 स्वर्ण मोहरे मिलेगी। अगर हमारे प्रश्नो का उत्तर नहीं मिलेगा तो आपको अपना राज्य हमें देना पड़ेगा।”

 

 

 

 

 

 

राजा ने यह सूचना पूरे राज्य में भिजवा दी लेकिन कोई हल नहीं निकला। सोहन को उदास देखकर उसके पिता ने पूछा तो सब बातें ज्ञात हो गई। पिता ने सोहन से कहा, “चिंता की बात नहीं है। जाकर वह कंकड़ मांग लाओ।”

 

 

 

 

 

 

सोहन के पिता ने कंकड़ को देखकर उसके एक छिद्र के ऊपर शहद लगा दिया। दूसरे छिद्र में एक मोती चींटी को धागे से बांधकर छोड़ दिया। कुछ समय के बाद चींटी शहद की गंध को ढूंढते हुए धागे के साथ उस पार पहुंच गई।

 

 

 

 

 

एक हाथ की रस्सी लेकर और एक चारपाई अपने सर के ऊपर डालकर राजदरबार में सोहन पहुंचा। धागा सहित कंकड़ राजा को दिखाया। रस्सी को जमीन पर रखने के बाद उसमे आग लगा दी कुछ पल में राख की रस्सी तैयार थी।

 

 

 

 

 

एक खाट को सर के ऊपर रखकर आधा धूप और आधा छांव का प्रदर्शन किया बाजीगर हार चुका था। यह देखकर राजा ने सोहन से पूछा, “तुम्हे यह सब किसने बताया ?”

 

 

 

 

 

“हमारे पिता ने हमे बताया।” सोहन बोला।

 

 

 

 

राजा को अपनी गलती का ज्ञान हुआ। उसने सभी बूढ़े व्यक्तियों को अपने राज्य वापस बुलाने की आज्ञा दी।

 

 

 

 

मित्रों यह Child Story in Hindi free Download PDF आपको कैसी लगी जरूर बताएं और इस तरह की दूसरी बुक्स के लिए इस ब्लॉग को सब्स्क्राइब जरूर करें और इसे शेयर भी करें।

 

 

 

1- Ayodhya Singh Upadhyay Poem in Hindi PDF Free Download

 

2- Balkavi Bairagi Books pdf in Hindi / बालकवि बैरागी की कवितायें फ्री

 

3- Hindi Kahaniyan 

 

 

Leave a Comment